My Learning From Women Farmers Of Rural Bihar

by | Mar 6, 2017

गाँव बंथु श्रीराम में महिला कृषकों के साथ बात-चीत

कहा जाता है, महिलाओ के विकास के बिना किसी भी समाज का पूर्ण विकास संभव नहीं है | परिवर्तन में महिलाओ के विकास के लिय महिला समाख्या कार्यक्रम पिछले 3 वर्ष के अधिक समय से चल रहा है, कई स्तरों पर सफलता हासिल की है | महिला समाख्या कार्यक्रम की आगे की दिशा तय करने के लिय तथा किशोरियों की आकांक्षाओं को लेकर समझ बनाने के उद्देश्य से डॉ. राजेश्वर मिश्रा सर (मेरे mentor) व्दारा लगातार तीन दिन तक गतिविधियाँ हुई | ये तीन दिन की बात-चीत न सिर्फ महिलाओं और किशोरियों को समझने में मददगार रही बल्कि इसमें एक मुख्य पध्यद्ती के साथ बहुत कुछ सिखने का मौका मिला |

‘Participatory method’ इसके बारे में अप्रत्यक्ष और कई बार शायद प्रत्यक्ष रूप के ही कई बार सुना था | पर किसी भी method को सुनने और उसे वैसा ही समझ कर उपयोग करना सहज नहीं होता | क्योकि जब हम मानव व्यवहार की बात करते है तो ये हर स्थान पर बदलता दिखाई पढता है | इसलिय किसी भी method या theory को वैसे का वैसा उपयोग करना मुस्किल होता है | Participatory method में हम प्रतिभागियों से ही समझते है की उन्हें किस चीज की जरुर है या एसी क्या चीज है जो वे चाह रहे है | जिसमे न सिर्फ सीधे बात करने की “आप की क्या जरुर है?” बल्कि उन गतिविधियों को सामिल किया जाता है, जिससे उनकी अन्दर की इक्क्षाओं को पता लगाया जा सके | जैसा की सहयोगिनी (क्षेत्रीय कार्यकर्त्ता) की ट्रेंनिंग में किन विषयों को सामिल किया जाना महत्वपूर्ण है, तो उनसे सीधे सवाल करने की जगह उन्हें ये सोचने को लिय कहा की अभी तक आप ने क्या अच्छा किया है? या महत्वपूर्ण किया है? और क्या चीज थी जो आप को मदद की? अब आगे ये सारे काम करने के लिय किस चीज की जरूरत है ? इन सवालों से उन्हें खुद के बारे में और खुद की ताकत और कमजोरियों को समझने का मौका मिलता | और उनके जवाव हमें मदद करते उन्हें समझने के लिय |

एक और मजेदार गतिविधि में उन्हें चित्र देखकर कहानी लिखने को कहा | एक ही चित्र को देखकर सभी सहयोगिनियों ने विभिन्न-विभिन्न कहानियां लिखी | जब हमने इसका विश्लेषण किया तो हमने पाया की उनकी लिखी कहानी से हम किसी व्यक्ति के बारे में कितना कुछ जान सकते है | व्यक्ति किस तरह की सोच रखता है, उसके जीवन में क्या या किस तरह के उतर/चड़ाव चल रहे है | मैं जिन की पारिवारिक स्थिति जानती हूँ, उसमे से कुछ की स्थिति उनकी कहानी में नजर आ रही रही | जिससे बाकि को भी समझ मिल रही थी | कहानी का विश्लेषण कर उनकी भावनाओं को समझने की बहुत ही अच्छा अनुभव रहा |

इसके अलावा हमने किशोरियों के साथ उनकी आकांक्षाओं पर भी बात की | हमारे जैसे पितृ-सत्तात्मक देश में लड़कियों को लडको से कमतर समझा जाता है, जिसके चलते लड़कियों की परवरिश भी कुछ इसी तरह से होती है | लड़कियों ने अपने घर में सुना होता है “तुम लड़की जैसे रहो, ज्यादा बोलने की जरूरत नहीं है” या एसा ही कुछ, जिसे सर ने ‘चुप रहने की संस्कृति’ नाम दिया | लड़कियों से बात कर उन्हें जानना एक चुनौती ही होता है | जब सेशन की शुरुआत हुई तो सभी बोलने में झिझक रही है | इसे समय ध्यान में रखना जरुरी हो जाता है की किसी पर भी जल्दी बोलने का दवाब बनाना उन्हें परेशान कर सकता है, इसलिय समय दे कर धीरे-धीरे प्रोत्साहित करना चाहिय, हर को अलग-अलग तरीके का उपयोग का प्रोत्साहित कर सकते है, रोक-टोक नहीं करना, हर व्यक्ति पर बराबर ध्यान देना, जिससे हम भी अपनी मान समझ सके. हर किसी को इस बात का आहसास दिलाने की कोशिश करे की उनके अन्दर कुछ खास बात है | यदि हम एक पर भी ध्यान नहीं देते है तो शायद वह आगली बार आना पसंद न करें और उसके चलते और भी लोग न आए इसलिय छोटी मगर उपयोगी बातो पर ध्यान देना जरुरी है | मैंने पाया इन बातो का ध्यान रखने से सेशन में अंत तक सभी लडकियों के चेहरे पर का मुस्कान थी |

IMG_20170208_123530909

परिवर्तन परिसर में किशोरियों के साथ बात-चीत

एक सबेरे हम गए गाँव ‘बंथु श्रीराम’ की महिला किसानो से मिलने | जहाँ उन्हें अपने खेत पर सब्जी उगने फायदे बता कर प्रोत्साहित किया गया | यहाँ मैंने देखा की बैठक में सभी को सामिल करना करना हमारे काम की कितना आसन कर देता और कई बिन्दुयों पर बात हो जाती है | यदि हमारा समूह लड़कियों या महिलाओं का है जिनके निर्णय स्वतंत्र नहीं होते है एसे में उनके घर के अभिभावक को भी सामिल करके उनको विश्वास दिलाया जा सकता है, जिससे वे हमसे जुड़ने में रोक न लगाए | और जब वे हमारी बात सुनते है तो हमारी बात को आगे फ़ैलाने में और बाकि लोगो को बात समझाने में मदद करें |

मुझे लगता है ये कुछ एसी बाते है जो समुदाय के साथ काम करने वाले किसी भी व्यक्ति के लिय काम को आसान बना सकती है| यदि हम लोगो की जरूरत उन्ही से पता करें तो हम उन्हें अच्छे से समझ पायगे और एक उनसे एक रिश्ता बना पायगे|

Stay in the loop…

Latest stories and insights from India Fellow delivered in your inbox.

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: